सोयाबीन के फायदे लेने के लिए कैसे खायें soyabean use- dadi ma ke nuskhe

सोयाबीन soyabean से सभी लोग परिचित है। शाकाहरी लोगों के लिए हाई-प्रोटीन डाइट में सोयाबीन के उपयोग की बहुत चर्चा होती है। सोयाबीन का उपयोग कई प्रकार से किया जा सकता है। इससे दूध , दही , पनीर आदि बनाये जा सकते है।

सोयाबीन से पनीर बनाया जाता है जिसे टोफू  Tofu कहते हैं । सोयाबीन की बड़ी Soya Chunks का उपयोग कई प्रकार की डिशेज और सब्जी बनाने में किया जाता है। खाने में इनका उपयोग आजकल बहुत बढ़ गया है। ये सभी चीजें बाजार में आसानी से उपलब्ध हैं। सोयाबीन के तेल का उपयोग दुनिया भर में खाना बनाने में होता है।

ये सभी प्रोटीन से भरपूर होते है। शाकाहारी लोगों के लिए ये प्रोटीन के अच्छे स्रोत हैं। विश्व भर में  Soyabean खाने में काम लिया जाता है।

चीन में इसका उपयोग हजारों सालों से होता आ रहा है। जापान में इससे मिसो Miso नामक सूप बनाया जाता है , जिसे रोजाना चावल के साथ नाश्ते में खाया जाता है। Soyabean से टेम्पेह Tempeh बनाया जाता है, जिसका कई देशों में खाने में उपयोग होता है।

Soyabean को कभी लाभदायक बताया जाता है और कभी नुकसानदेह । इस बारे में बहुत कन्फयूजन रहता है। Soyabean फायदेमंद भी हो सकता है और नुकसानदायक भी अतः इसका उपयोग सावधानी के साथ किया जाना चाहिए। आइये जानते है Soyabean ke fayde nuksan  तथा सोयाबीन का उपयोग किस प्रकार करना चाहिए।

सोयाबीन के पोषक तत्व

Soyabean Nutrients hindi me

कृपया ध्यान दे : किसी भी लाल रंग से लिखे शब्द पर क्लीक करके उसके बारे में विस्तार से जान सकते हैं। 

सोयाबीन में कई प्रकार के पोषक तत्व होते है। शाकाहारी भोजन में प्रोटीन का यह सर्वश्रेष्ठ स्रोत है। इसमें शरीर के लिए जरुरी सभी प्रोटीन Essential amino acid मौजूद होते हैं।

( इसे जरुर पढ़ें : प्रोटीन की कमी हैं ये समस्या और पता नहीं चलता )

इसके अलावा यह विटामिन , कार्बोहाइड्रेट , फाइबर तथा कई प्रकार के खनिज से भरपूर होता है। इसमें विटमिन K  , राइबोफ्लेविन , फोलेट , विटामिन बी 6 , थायमिन , विटामिन C , तथा खनिज के रूप में आयरन , मेगनीज , फॉस्फोरस, कॉपर , पोटेशियम , मेग्नेशियम , मेगनीज , ज़िंक , सेलेनियम तथा कैल्शियम पाए जाते हैं।

कई प्रकार के एंटीऑक्सीडेंट भी इसमें होते हैं। Soyabean  श्रेष्ठ प्रोटीन , कार्बोज और वसा युक्त एक उत्कृष्ट आहार है।

सोयाबीन में लेसिथिन नामक तत्व होता है जो त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद होता है। यह तत्व हृदय के लिए भी लाभदायक होता है।

मांस , मछली आदि प्रोटीन वाले आहार में न्यूक्लिओ नामक प्रोटीन होता है। इससे यूरिक एसिड बनता है । यूरिक एसिड के कारण गठिया जैसे रोग हो जाते हैं। सोयाबीन में न्यूक्लिओ नहीं होता अतः इसका प्रोटीन अच्छा होता है।

Soyabean के कार्बोज में स्टार्च और शर्करा कम होती है इसलिए डायबिटीज और अधिक वजन के लोगों के लिए भी यह उपयुक्त होता है।

सोयाबीन के तेल में लाभदायक पाली सैचुरेटेड , अनसैचुरेटेड फैट , ओमेगा 3 तथा ओमेगा 6  फैटी एसिड होते हैं। Soyabean ke tel  में घुलनशील विटामिन A  , D , E  तथा K  पर्याप्त मात्रा में होते है। यह एकमात्र ऐसा वनस्पति तेल है जिसमे विटामिन A पर्याप्त मात्रा में होता है।

( इसे भी जरूर पढ़ें : म्यूजली क्या है इसे खाने से क्या फायदा )

सोयाबीन के फायदे

Soyabean Benefits in hindi

मेटाबोलिज्म

मेटाबोलिज्म की प्रक्रिया में प्रोटीन आवश्यक होता है। प्रोटीन शरीर की प्रत्येक कोशिका के लिए जरुरी होता है। शाकाहारी भोजन में प्रोटीन की कमी होने की संभावना होती है अतः आप मांस , मछली , अंडा आदि नहीं खाते तो  Soyabean से इनके जैसे लाभ लिए जा सकते हैं।

हृदय

Soyabean से लाभदायक अनसैचुरेटेड फैट मिलते हैं जो कोलेस्ट्रॉल कम करते हैं। इससे नसों में जमाव नहीं होता और हृदय रोग से बचाव होता है। इसके अलावा इसमें लिनोलिक एसिड जैसे लाभदायक फैटी एसिड होते हैं जो मांसपेशियों को मजबूत बनाते हैं तथा ब्लड प्रेशर को नियंत्रण में रखने में सहायक होते हैं।

इसमें पाया जाने वाला फाइबर भी कोलेस्ट्रॉल कम करता है और नसों को सुरक्षित बनाये रखने में मददगार होता  है।

मेनोपॉज

सोयाबीन प्राकृतिक हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी  HRT  की तरह काम करता है। इसमें पाये जाने वाले आइसोफ्लेवन्स एस्ट्रोजन हार्मोन की कमी के असर को कम करते हैं। महिलाओं में मेनोपॉज के समय एस्ट्रोजन हार्मोन की कमी हो जाती है। मेनोपोज़ के बारे में विस्तार से जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

READ  पेट और कमर कम करने का जबरदस्त घरेलु नुस्खा

हार्मोन की कमी से शरीर में कई प्रकार के परिवर्तन और दिक्कत होने लगती है। Soyabean खाने से इसमें मौजूद आइसोफ्लेवन के कारण ये दुष्प्रभाव कम हो सकते हैं। इससे चिड़चिड़ापन , हॉट फ्लैश आदि का असर कम हो जाता है। अतः मेनोपॉज के समय होने वाली परेशानियों से बचने का यह एक अच्छा उपाय साबित हो सकता है।

पाचन

Soyabean में प्रचुर मात्रा में फाइबर होता है। फाइबर का आंतो की सफाई तथा आँतों की क्रियाशीलता में बहुत महत्त्व होता है। फाइबर कब्ज से भी बचाता है। इस प्रकार Soyabean पाचन तंत्र को ताकत देता है। पाचन सही होने से शरीर को भोजन के पोषक तत्व मिल पाते है जो स्वास्थ्य के लिए जरुरी है।

( इसे जरुर पढ़ें : फाइबर भोजन में होना इन कारणों से बहुत जरुरी है )

हड्डी

सोयाबीन में पाए जाने खनिज विशेषकर कैल्शियम , मेग्नीशियम , कॉपर , सेलेनियम , और जिंक हड्डी की मजबूती के लिए सम्पूर्ण योगदान देते हैं। ये सभी तत्व नई हड्डी का निर्माण तथा हड्डी की मजबूती के लिया जरुरी होते हैं। उम्र बढ़ने से साथ हड्डी की कमजोरी अर्थराइटिस से बचने के लिए Soyabean का नियमित उपयोग सहायक हो सकता है।

खून की कमी

सोयाबीन में कॉपर तथा आयरन प्रचुर मात्रा मात्रा में होते है। ये दोनों खनिज लाल रक्त कण में निर्माण के लिए जरुरी होते हैं। Soyabean में पाए जाने वाले तत्व रक्त के निर्माण में मदद करके खून की कमी दूर करते है। शरीर के सभी अंगों को स्वस्थ रहने के लिए रक्त और ऑक्सीजन की जरुरत होती है। इससे मेटाबोलिज्म की प्रक्रिया सुधरती है और शरीर को ताकत मिलती है।

डायबिटीज

Soyabean में पाए जाने वाले खनिज तत्व तथा फाइबर के कारण इसे खाने से रक्त में शर्करा की मात्रा में बढ़ोतरी नहीं होती। अतः इसका उपयोग डायबिटीज का खतरा कम कर सकता है।

नींद नहीं आना

सोयाबीन से मिलने वाला मेग्नेशियम नींद की प्रक्रिया में सहायक होता है। मेग्नेशियम की कमी गहरी नींद में बाधक बनती है। Soyabean के नियमित उपयोग से मैग्नीशियम की कमी नहीं होती और नींद अच्छी आती है। नींद के घरेलु उपाय जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

सोयाबीन के नुकसान

Side effects of soyabeen hindi me

संतान उत्पत्ति में बाधक

Soyabean  में एस्ट्रोजन हार्मोन जैसे तत्व होते हैं। पुरुषों में सोयाबीन का अधिक उपभोग कभी कभी हार्मोन के असंतुलन का कारण बन सकता है। इसके कारण शुक्राणु की संख्या में कमी या यौन क्षमता में कमी की समस्या हो सकती है।

अतः यदि दंपत्ति संतान पैदा करने की कोशिश कर रहे हो यो Soyabean का उपयोग नहीं करना चाहिए। गर्भधारण की कोशिश में ओव्यूलेशन के समय महिलाओं को Soyabean नहीं खाना चाहिए।

( इसे जरूर पढ़ें : गर्भ धारण के लिए कब क्या कैसे करें  )

गर्भावस्था में भी Soyabean का उपयोग उचित नहीं होता है।

थायराइड

सोयाबीन में थायराइड के हार्मोन को नष्ट करने वाले तत्व होते हैं अतः इससे थायराइड ग्रंथि में सूजन आकर कई प्रकार की थायराइड से सम्बंधित परेशानी हो सकती है। हाइपोथायराइड यानि थायराइड की कमी हो तो Soyabean नहीं लेना चाहिए। थायरॉइड के बारे में विस्तार से जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

किडनी

सोयाबीन में ऑक्जेलेट होता है। अतः किडनी की परेशानी हो या गुर्दे में पथरी हो तो Soyabean का उपयोग चिकित्सक की सलाह लेने के बाद ही करना चाहिए। जिन महिलाओं को एस्ट्रोजन हार्मोन से प्रभावित स्तन की गांठ हो तो उन्हें सोयाबीन का उपयोग कम करना चाहिए।

फाइबर

सोयाबीन में अघुलनशील फाइबर होते हैं। कुछ लोगों को फाइबर से पेट फूलने या दस्त आदि की परेशानी होती है। ऐसे में Soyabean का उपयोग सावधानी से करना चाहिए।

सोयाबीन के उपयोग का सबसे अच्छा तरीका

Best way to eat soyabean in hindi

सोयाबीन में फायटिक एसिड अधिक मात्रा में होता है। यह तत्व मुख्य खनिज जैसे आयरन , कैल्शियम , ज़िंक आदि को जकड़ कर रखता है और इनके पाचन तथा शरीर में अवशोषण में बाधा उत्पन्न करता है।

दाल गेहूं आदि में भी यह तत्व होता है लेकिन पानी में भिगोने , अंकुरित  करने या पकाने की प्रक्रिया से फायटिक एसिड और खनिज तत्वों का बंधन टूटता है और खनिज का अवशोषण आसान हो जाता है।

READ  घर पर नींबू पानी कैसे बनाते हैं

सोयाबीन में इन प्रक्रियाओं से भी फायटिक एसिड का बंधन नहीं टूटता। खमीरीकरण Fermentation से ही यह बंधन टूटता है। अतः सोयाबीन का खमीरीकरण करके खाना सबसे अच्छा होता है।

खमीर या यीस्ट के बारे में तथा घर पर यीस्ट बनाने की विधि जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

सोयाबीन से बनने वाले मिसो , tempeh , natto आदि भी खमीरीकरण से ही तैयार किये जाते हैं। इसलिए ये पचने में आसान और फायदे मंद होते है। सोयाबीन का दही बनाना भी खमीरीकरण का ही एक रूप है अतः सोयाबीन का दही या छाछ का उपयोग इसके फायदे लेने का अच्छा तरीका होता है।

इससे सोयाबीन के खनिज शरीर को पूरी मात्रा में मिलते हैं। सोयाबीन का दही बनाने के लिए सोयाबीन का दूध बनाना होता है। सोयाबीन से दूध , दही , पनीर बनाने का तरीका इस प्रकार है :

सोयाबीन का दूध बनाने की विधि

soyabean milk making hindi

50 ग्राम पीले सोयाबीन रात को पानी में भिगो दें। लगभग 12 घंटे भीगने चाहिए। सुबह मसल कर छिलके निकाल कर फेंक दें। छिलके निकले सोयाबीन को मिक्सी में बारीक़ पीस ले। इसमें आधा लीटर पानी मिलाकर छान लें। आधा लीटर सोयाबीन का दूध तैयार है।

इसे हिलाते हुए उबलने तक गर्म कर लें। नहीं हिलाने से चिपक सकता है। अब ठंडा या गर्म जैसा पसंद हो पिया जा सकता है। दूध छानने में बाद बचे हुए पिसे सोयाबीन का उपयोग  इस प्रकार किया जा सकता है :

—  इसमें आटा या बेसन तथा प्याज , हरी मिर्चनमक, मसाले आदि डालकर पराठे बना कर खाये जा सकते है।

—  रसेदार सब्जी में डाला जा सकता है। ग्रेवी गाढ़ी हो जाती है।

—  इसमें चना , मूंग या उड़द का आटा और मसाले मिलाकर मंगोड़ी बड़ियाँ , पकौड़ी , टिकिया आदि बना सकते हैं।

सोयाबीन का दही – Soyabean Curd

सोयाबीन के आधा लीटर गुनगुने दूध में दो चम्मच दही मिलाकर जमने के लिए रख दें। 7 -8 घंटे में दही जमकर तैयार हो जाता है। इसकाउपयोग सादा दही की तरह करें। इसकी छाछ बना कर भी उपयोग में ले सकते हैं। सोयाबीन के उपयोग का यह सबसे अच्छा फायदेमंद तरीका है।

दही कब और कैसा नहीं खाना चाहिए जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

सोयाबीन का पनीर टोफू –

Soya paneer Tofu recipe hindi me

सोयाबीन के दूध को गर्म करके उसमे नींबू का रस या टाटरी डालें। दूध फटने पर छान लें। दबा कर रखें और पनीर बना लें। यह पनीर ही टोफू कहलाता है। गाय भैंस के दूध से नर्म , स्पंजी और सफ़ेद पनीर बनाने की विधि जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

इन्हे भी जानें और लाभ उठायें :

कौनसे स्पेशलिस्ट डॉक्टर को दिखाएँ

सब्जी खरीदते समय ये 17 बातें ध्यान रखना क्यों जरुरी 

शादी के ये वचन प्रतिज्ञा याद हैं ?

भ्रामरी प्राणायाम करने का सही तरीका और फायदे 

शकरकंद आँखों के लिए इतना फायदेमंद 

पसीना ज्यादा आने के कारण और उपाय 

गले में खराश मिटाने के घरेलु नुस्खे 

चिया बीज खाने के फायदे 

सौंफ खाने के आश्चर्यजनक लाभ 

काली मिर्च क्यों जरूर खानी चाहिए

Disclaimer : The above mentioned post is for informational purpose only


Soyabean, रेस्टोरेंट स्टाइल सोयाबीन की सब्जी। Restaurant Style Soya Curry | Soyabean Ki Sabji


Soyabean, रेस्टोरेंट स्टाइल सोयाबीन की सब्जी। Restaurant Style Soya Curry | Soyabean Ki Sabji
Soya chunks
soyabean ki sabzi
soya curry
soyabean ki bhaji
soya bean recipe

Doston aaj hum bilkul Restaurant style m soyabean ki sabji banayenge ye bhot hi tasty banti hai. Aap ise jarur try krna ☺
If you like my recipe then please like👍 this video and subscribe my channel.
NOTE:
1 Cup 250 ml
1 Tbsp 15 ml
1 Tsp 5 ml
Sabji Recipes:https://youtube.com/playlist?list=PLMhRd9zMtVQ1nn2v5qgjcPAcjx5VBZZv
Rajasthan Special recipes:https://youtube.com/playlist?list=PLMhRd9zMtVQq6sJILSLk9NnnD5uLmn1P
Egg Recipes👉https://youtube.com/playlist?list=PLMhRd9zMtVR9DvtMwFNZDR6l5ta3PdV2
Chicken Recipes👉https://youtube.com/playlist?list=PLMhRd9zMtVRnl2RNuYVdkBXFi7XgRc8
Summer Special Shakes, Ice cream \u0026 Dessert Recipes👉https://youtube.com/playlist?list=PLMhRd9zMtVQr0PcGcVUAMxtL_jWE0XCs
Chutney Recipes👉https://youtube.com/playlist?list=PLMhRd9zMtVT_2hEq2pUxIPtkEreMrmx4
Paneer Recipes👉https://youtube.com/playlist?list=PLMhRd9zMtVTBYabTTNQtxe7qFLJxvnS
Festival Special Sweets:https://youtube.com/playlist?list=PLMhRd9zMtVSd2sTk7Ejb9IDV1NWZlDr
Follow me on facebook 👉https://www.facebook.com/COOKWITHSUMANRATHORE/
Follow me on Instagram 👉https://www.instagram.com/cookwithsumanrathore/
cookwithsumanrathoresoyabeansoyachunkssoyabeankisabjisoyacurrynutrisoyachunks
soybean
soybean recipe
soya bean recipe
soybean ki sabji
aalu soyabean ki sabji
soyabean ka keema recipe

Hãy bình luận đầu tiên

Để lại một phản hồi

Thư điện tử của bạn sẽ không được hiện thị công khai.